Sunday, May 18, 2008

मैंने चुप रहकर सब कहने की अदा सीख ली है !!!


कुछ ने मेरे बारे में ये समझ लिया के मैं कुछ नहीं कहता , मेरे बंद होटों को मेरी कमज़ोरी समझने लगे , मैं फ़िर भी चुप रहा , मुझे हर वक्त ये लगता क्या मैं इतना कमज़ोर हूँ ?
किसी की आगे बढ़ने की होड़ ने मुझे पीछे ढकेलने का बखूबी से काम किया , मैं फ़िर भी चुप रहा , मैंने अब सोच लिया है ख़ुद को साबित करने का , मुझे अब ख़ुद को समझना है ,
मुझे अब भी किसी से शिकायत नहीं है , मैं अब भी चुप हूँ लेकिन चुप रहकर सब कहने की अदा सीख ली है !!!

1 टिप्पणियाँ:

Amit K. Sagar on May 27, 2008 at 4:42 AM said...

आपका स्वागत है. महोदय. लिखते रहिये. शुभकामनायें.
---
http://ultateer.blogspot.com

 

Copyright 2008 All Rights Reserved | Revolution church Blogger Template by techknowl | Original Wordpress theme byBrian Gardner